कोरोना वैक्सीन की पहली खेप से 16 को जौनपुर में 21 केन्द्रों पर वैक्सीनेशन

1717 वायल वैक्सीन की कड़ी सुरक्षा,एक वायल से 10 का वैक्सीनेशन,पहले चरण में 2100 फ्रंटलाइन वर्कर्स को टीका

जौनपुर। वैश्विक महामारी कोरोना से राहत पाने के लिए लंबे समय से वैक्सीन का इंतजार हो रहा था। वैक्सीन की पहली खेप लखनऊ से वाराणसी होते हुए बुधवार की देर शाम कड़ी सुरक्षा में यहां लाई गई। डीएम दिनेश कुमार सिंह और सीएमओ डॉ. राकेश कुमार की मौजूदगी में इसे आईएलआर में सुरक्षित रखा गया। सीसी टीवी कैमरे से निगरानी की जा रही है। सुरक्षाकर्मियों की भी तैनाती की गई है। पहली खेप में आई 1717 वायल वैक्सीन को सीएमओ कार्यालय परिसर में बने आइस लेबल रेफ्रिजरेटर में रखा गया है।

एक वायल से 10 लोगों का वैक्सीनेशन होगा। रुट चार्ट तैयार करने के बाद इसे 16 को सुबह ही सभी 21 केंद्रों पर पहुंचाया जाएगा। इसी दिन वैक्सीनेशन की शुरुआत होगी।पहले चरण में जिले के 21 केंद्रों पर 2100 फ्रंटलाइन वर्कर्स (स्वास्थ्य सेवा से जुड़े लोग) का वैक्सीनेशन होगा। एक वायल की सील टूटने के बाद उसे अधिकतम चार घंटे में उपयोग करना होगा। सीएमओ ने बताया कि मुख्यालय पर जिला पुरुष व महिला चिकित्सालय, लीलावती महिला चिकित्सालय पर वैक्सीनेशन होगा। इसके अलावा करंजाकला, सिरकोनी, महाराजगंज, सुईथाकला सीएचसी को छोड़कर अन्य सभी 18 सीएचसी पर कोविड वैक्सीनेशन किया जाएगा।

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. नरेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि जिन कर्मचारियों को पहले चरण में वैक्सीन लगाया जाना है, उनकी सूची पहले ही तैयार कर पोर्टल पर फीड की जा चुकी है। उन्होंने शंकाओं को दूर करते हुए कहा कि वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित व असरदार है। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने जारी पुस्तिका में जानकारी दी है कि उच्च जोखिम वाले समूहों को प्राथमिकता के आधार पर वैक्सीनेशन के लिए चिह्नित किया गया है। इन्हें तीन समूहों में बांटा गया है। पहले समूह में हेल्थकेयर और फ्रंटलाइन वर्कर शामिल हैं, दूसरे समूह में 50 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्ति तथा जो पहले से ही किसी रोग से ग्रसित हैं। इसके बाद अन्य आम लोगों को वैक्सीन उपलब्ध कराया जाएगा। कोरोना वैक्सीन व्यक्ति की रजामंदी के बाद ही दिया जाना है।

हालांकि स्वयं की सुरक्षा और बीमारी के प्रसार को सीमित करने के लिए कोरोना वैक्सीन आवश्यक है। कोविड वैक्सीनेशन के लिए पात्र लाभार्थियों को पहले पंजीकरण कराना होगा। उनके पंजीकृत मोबाइल नंबर के माध्यम से वैक्सीनेशन और उसके निर्धारित समय के बारे में स्वास्थ्य सेवाओं द्वारा सूचित किया जाएगा। पंजीकरण के लिए फोटो के साथ पहचान पत्र दिखाना अनिवार्य होगा। वैक्सीन की खुराक पूरा करने के लिए 28 दिन के अंदर एक व्यक्ति द्वारा इसकी दो खुराक लेने की सलाह दी गई है। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने यह स्पष्ट भी किया है कि कोरोना वैक्सीन की दूसरी खुराक प्राप्त करने के दो सप्ताह बाद आमतौर पर एंटीबाडी का सुरक्षात्मक स्तर विकसित होता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button