जौनपुर में नए जेल निर्माण के लिए कवायद मंथर गति से जारी, निबंधन शुल्क आये तो शुरू हो भूमि का बैनामा

जौनपुर। प्रस्तावित नए जिला कारागार के लिए जिन 343 किसानों से भूमि का बैनामा कराया जाना है, उनमें से 175 की जमीन की मालियत के आकलन का काम पूरा हो गया है। भूमि संबंधी दस्तावेजों के आधार पर जेल प्रशासन अन्य किसानों की भी भूमि के मूल्य का आकलन करने में जुटा हुआ है। बावजूद इसके बैनामे की प्रक्रिया इस साल शुरू होने की उम्मीद कम ही है, क्योंकि निबंधन शुल्क के लिए जरूरी 35 लाख रुपये काफी लिखा-पढ़ी के बाद भी अभी तक अवमुक्त नहीं हो सके हैं।
‌ गौरतलब है कि 150 साल पहले स्थापित जेल में बंदी क्षमता महज 320 है। लेकिन जेल में बंदियों की संख्या क्षमता से करीब चार गुना हो गई है। करीब एक दशक पहले जब बंदी क्षमता से दो गुना हुई थी, तो उसी वक्त जेल के निर्माण की कवायद शुरू हुई थी। करीब सात साल बाद प्रशासन ने जौनपुर-मीरजापुर रोड पर कुद्दूपुर, रंजीतपुर व इंदरिया गांवों में 20 हेक्टेयर के आस-पास जमीन चिह्नित की। इसमें 12.99 हेक्टेयर जमीन 343 किसानों की है। बाकी जबकि 7.03 हेक्टेयर ग्राम समाज की है । जिन किसानों की जमीन अधिग्रहीत की जा रही है गांव के सर्किल रेट से कहीं ज्यादा मुआवजे के तौर पर भुगतान के लिए शासन से आए 45 करोड़ 72 लाख 90 हजार साल भर से केनरा बैंक की शाखा में जेल अधीक्षक के पदनाम के खाते में जमा है। राज्यपाल ने बैनामा के लिए स्टांप शुल्क माफ कर दिया है। अब निबंधन शुल्क अड़ंगा बना हुआ है। भूमि की मालियत पर दो फीसदी की दर से निबंधन शुल्क देना है। निबंधन विभाग ने कुछ रियायत कर 10 लाख से कम मालियत पर 10,500 व इससे अधिक पर अधिकतम 20 हजार रुपये निर्धारित कर दिया है। जेल अधीक्षक एस के पांडेय ने बताया कि बाकी 168 किसानों की भूमि की मालियत का आकलन कराया जा रहा है। शासन से निबंधन शुल्क आते ही बैनामा कराने का काम शुरू हो जाएगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button