भयंकर जाम से समूचे जौनपुर शहर की हालत खस्ता

जौनपुर।  जिला मुख्यालय के सभी प्रमुख मार्गों पर इन दिनों सुबह से लेकर देर शाम तक कई बार लगने वाले रास्ता जाम के कारण शहर का जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। जाम के कारण कोविड-19 से संबंधित गाइडलाइंस का कोई अर्थ नहीं दिखाई दे रहा है। सोमवार को भी तकरीबन पूरा शहर भयंकर जाम की चपेट में रहा, लोगों को सामान्य दूरी तय करने में पसीने छूट गए। वहीं यातायात व्यवस्था सुचारू करने की जद्दोजेहद में लगे पुलिस के लोग असहाय से हो गये।  शादी ब्याह की भीड़ भाड़ के साथ बाजारों में दुकानों के सामने फुटपाथ पर बेतरतीब खड़े बेशुमार वाहनों ने सोमवार को भी चलना दूभर कर दिया। जाम के कारण आवाजाही ठप होते ही किसी तरह सबसे पहले निकल लेने की वाहन चालकों की कोशिशों ने हालात और खराब कर दिए। नतीजे में 10 मिनट की दूरी 2 घंटे में भी पूरी होनी मुश्किल दिखाई दी। शाही पुल, हरलालका रोड, नवाब युसूफ रोड, ओलंदगंज, जोगियापुर, रोडवेज, जेसीज चौराहा,पंचहटिया, सब्जी मंडी, कोतवाली चौराहा, सद्भावना पुल जैसे सभी प्रमुख स्थान भयंकर जाम का शिकार रहे।

यह सभी जगहें शहर की गतिविधियों का केंद्र बिंदु हैं, इसलिए जाम के कारण सब कुछ ठहर सा गया। अफरातफरी के इस माहौल में पुलिस के सीमित लोग बहुत देर तक जूझने के बाद थोड़ी ही राहत दे पाए।जगह जगह खड़ी सड़कें अनेक स्थानों पर बने बने बने खड्डे और कुछ स्थानों पर सड़क निर्माण के लिए हो रही कवायदों ने पंचहटिया से लेकर धर्मापुर मोड़ तक और शहर की तरफ सिपाह तक का आवागमन लंबे अरसे से दुष्कर कर रखा है। 

अधिकारियों और प्रशासन के लोगों के भी परेशान होने के बावजूद इस दिशा में अभी तक कोई ठोस कदम नहीं उठाया जा सका है। वहीं थोड़ा आगे चलकर गोमती नदी पर स्थित शास्त्री पुल (नया पुल) की क्षतिग्रस्त सड़क वाहनों को रेंगने पर मजबूर कर देती हैं। दूसरी तरफ पुल की रेलिंग जगह जगह से टूट कर लोगों को हमेशा सशंकित कर रही हैं। ऐसी स्थिति में यह मुख्य मार्ग भी दो प्रमुख राजमार्गों और शहर के कई मुख्य मार्गों पर होने वाले जाम का कारण बना हुआ है। मुख्यमंत्री द्वारा कई बार इस संदर्भ में दिए गए दिशानिर्देश का जौनपुर में क्रियान्वयन नहीं दिखाई दे रहा है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button