बीवी के चरित्र पर शक से पगलाए युवक ने कोशिश की अपने ही परिवार के सफाए की

हमले में मासूम बेटी और बीच में आई वृद्धा की मौत, बीबी-बेटा समेत 4 अस्पताल में भर्ती

जौनपुर। शाहगंज में अपने ही परिवार को चाकू मार कर खत्म कर देने की कोशिश करने वाले युवक को अपनी कमजोर मानसिक स्थिति में अपनी पत्नी के चरित्र पर शक हो गया था। उसे यह भी शक था कि उसके दोनों बच्चे उसके नहीं है। यही शक वह बुनियाद बन गया जिससे उसने परिवार के चार लोगों और बीच-बचाव करने आए दो अन्य पर चाकू से हमला कर दिया। वारदात में उसकी पुत्री हुमेरा (7 वर्ष) और सुलेमा (65 वर्ष) की मौत हो गई। पत्नी और बेटे समेत चार लोग अस्पताल में गंभीर हालत में भर्ती हैं।
मामला शाहगंज कोतवाली क्षेत्र अंतर्गत भादी मुहल्ले का है।

स्थानीय लोगों के अनुसार शाहगंज नगर के भादी खास मोहल्ले का निवासी मुमताज़ मानसिक रूप से विक्षिप्त है। सोमवार की शाम परिवार वाले उसे उपचार के लिए वाराणसी ले जा रहे थे। इमरानगंज बाजार के पास वह किसी तरह गाड़ी से उतर कर भाग निकला। मंगलवार को घर पहुंचा और अचानक उसने पत्नी व बच्चों पर हमला करना शुरू कर दिया। जिससे बेटी हुमेरा (7 वर्ष), पुत्र मोहम्मद (3 वर्ष) जख्मी हो गए। बीच बचाव करने पहुंची पत्नी फ़िरदौस (28 वर्ष) व भाई अफ़रोज़ की पत्नी निलोफर (24 वर्ष) पर भी उसने हमला कर दिया। पत्नी फ़िरदौस अपनी जान बचा कर बाहर भागी। दूध बेचने जा रही नोनहट्टा की सुलेमा (65 वर्ष) व पड़ोसी मंजूर (36 वर्ष) ने रास्ते में बीच बचाव किया। विक्षिप्त ने उन पर भी हमला कर दिया।

इन हमलों में घायल सभी को उपचार के लिए पुरुष चिकित्सालय लाया गया। वहां डाक्टरों ने हुमेरा व सुलेमा को मृत घोषित कर दिया। अन्य घायलों को प्राथमिक उपचार के बाद सदर अस्पताल रेफर कर दिया गया। सूचना मिलते ही पुलिस ने आरोपी मुमताज को वारदात में प्रयुक्त चाकू के साथ गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार किए गए युवक का सनसनीखेज बयान है कि 7 साल की मासूम बेटी और 3 साल के बेटे को वह मौत के घाट उतारना चाह रहा था क्योंकि उसे शक था कि दोनों उसकी औलाद नहीं हैं।

उसकी पत्नी के किसी और से नाजायज़ संबंध हैं। इसलिए वो पत्नी की भी हत्या करना चाहता था। बेटी तो पिता के हमले में मौत की नींद सो गई, लेकिन बेटा और पत्नी अस्पताल में भर्ती हैं। दूसरी तरफ मामले से कोई संबंध ना होने के बावजूद वृद्धा की मौत से गुस्साए लोगों ने शाहगंज में रामलीला भवन चौराहे पर जाम लगा दिया। सूचना पर पहुंचे उप जिलाधिकारी राजेश कुमार वर्मा, क्षेत्राधिकारी अंकित कुमार व कोतवाली पुलिस ने लोगों को समझा बुझाकर हटाया। थोड़ी ही देर बाद बड़ी संख्या में लोगों ने शाहगंज कोतवाली भी पहुंच गए। यहां भी अधिकारियों ने लोगों को समझा बुझा कर मामला शांत कराया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button