मोबाइल छीनने के चक्कर में सरेशाम हुई थी युवक की हत्या, बताया मुल्जिमों ने

जौनपुर। सरायख्वाजा थाना क्षेत्र के जंगीपुरकला गांव में एक सप्ताह पूर्व सरेशाम हुई युवक की हत्या की गुत्थी सुलझाने का पुलिस ने दावा किया है। पुलिस के अनुसार युवक की हत्या मात्र मोबाइल छीनने के लिए की गई थी। पुलिस ने दो युवकों को गिरफ्तार करके उनके पास से हत्या में इस्तेमाल की गई पिस्टल और मोटरसाइकिल के साथ मृतक का मोबाइल भी बरामद किया है।
‌ मृत युवक रूपेश कश्यप मुंबई में बीएससी अंतिम वर्ष का छात्र और अपने माता पिता का अकेला पुत्र था। लाॅकडाउन होने पर उसके पिता मुंबई से उसे लेकर अपने गांव आ गए थे। वारदात के दिन 18 अक्टूबर की शाम को रुपेश गांव में अपने घर से सड़क के पास बने नए मकान के लिए गया था, वही उसके साथ वारदात हुई। युवक और उसके परिवार कि किसी से कोई रंजिश नहीं थी इसलिए किसी को समझ में नहीं आया कि वारदात क्यों हुई। इस सनसनीखेज वारदात के बाद सरायख्वाजा पुलिस और एसओजी की टीम संयुक्त रुप से हत्यारों की तलाश कर रही थी। खबर दी गई है कि थाना सरायख्वाजा पर पंजीकृत मु.अ.सं. 244/20 धारा 302/394/411 भादवि से सम्बन्धित अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु मुखबिर की सूचना पर प्रभारी निरीक्षक सरायख्वाजा मय फोर्स व एस.ओ.जी. की संयुक्त टीम द्वारा पतहना मोड पर गाढा बन्दी कर दो अभियुक्तों सोनू यादव पुत्र दयानन्द यादव व सुजीत यादव पुत्र कन्हैया लाल यादव (निवासीगण ग्राम जमीनपकडी थाना सरायख्वाजा) को हीरो होण्डा पैशन प्लस मोटरसाइकिल (UP 62 M 5095) के साथ गिरफ्तार किया गया। अभियुक्तों की तलाशी के दौरान सोनू यादव के कब्जे से एक 32 बोर की पिस्टल और 3 जिन्दा कारतूस 32 बोर तथा सुजीत यादव के कब्जे से एक अदद देशी तमन्चा मिला। उनके कब्जे से एक सैमसंग टच स्क्रिन मोबाइल भी बरामद हुआ, जो मृतक का था।
पूछताछ के दौरान अभियुक्त सोनू यादव ने घटना को कारित करना स्वीकार करते हुये बताया कि ‘वारदात के दिन मैं सुजीत यादव के साथ अपनी मोटरसाइकिल हीरोहोण्डा पैशन प्लस से गभीरन से घर लौट रहा था। मोटरसाइकिल सुजीत यादव चला रहा था मैं पीछे बैठा था। शाम पौने सात बजे के करीब वे जब जंगीपुरकला रेलवे क्रासिंग के आगे पहुंचे तो सड़क पर खड़ा होकर रूपेश कश्यप मोबाइल देख रहा था। हम दोनों की नियत खराब हो गयी। मोटरसाइकिल से हम लोग थोड़ा आगे बढ़ गये, आगे से गाड़ी घुमाकर वापस आये व सड़क पर ख़ड़े होकर मोबाइल देख रहे रूपेश कश्यप से मैंने मोबाइल छीन लिया। तब तक वह मेरा हाथ पक़ड लिया पकड़े जाने के डर से हड़बड़ाहट में डराने-धमकाने के लिये मैंने अपने पास लिये पिस्टल से उसके पैर पर गोली मार दिया, जिससे वह गिर गया। हम लोग मोटरसाइकिल से नहर की पटरी पकड़ कर गड़ैला की तरफ भाग गये थे। आज बरामद पिस्टल से ही मैंने गोली चलायी थी तथा सुजीत के पास से बरामद सैमसंग टच स्क्रिन मोबाइल मृतक रूपेश कश्यप का ही है, जिसे हमने गोली मारने के बाद ले लिया था।’ गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम में थाना सरायख्वाजा के प्रभारी निरीक्षक सुधीर कुमार आर्य , निरीक्षक योगेन्द्र यादव प्रभारी एस.ओ.जी. टीम, एस आई रोहित कुमार मिश्र चौकी प्रभारी शिकारपुर एवं राजेश कुमार सिंह अपने सहयोगियों के साथ थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button