प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना से किसानों के खाते में आएगी 36000 रुपये पेंशन

योजना का फायदा उठाने के लिए रजिस्ट्रेशन जरूरी, देना होगा प्रीमियम

जौनपुर। सरकार ने प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना शुरू की है। इसके तहत किसानों को 3000 रुपये या 36000 रुपये का आर्थिक लाभ प्राप्त होगा। सरकार लगातार किसानों के हित में विभिन्न योजनाओं पर अमल कर रही है। मोदी सरकार ने अपने पहले कार्यकाल में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की शुरुआत की थी। फिलहाल 11.5 करोड़ किसान इस योजना में रजिस्ट्रेशन कराकर इस योजना के तहत सालाना 6000 रुपये का लाभ ले रहे हैं। वहीं किसानों के बुढ़ापे में नियमित 36000 रुपये सालाना की पेंशन का प्रबंधन करने के लिए सरकार ने प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना शुरू की है।

इसके तहत किसानों को 3000 रुपये प्रति माह या 36000 रुपये वार्षिक का आर्थिक लाभ प्राप्त होगा। किसानों की पेंशन योजना में 1 जनवरी 2021 तक 21,10,207 लोगों का रजिस्ट्रेशन हुआ है। सरकार ने इसका लाभ उन सभी 12 करोड़ किसानों को देने का प्लान बनाया है जिनके पास 2 हेक्टेयर या फिर 5 एकड़ तक की कृषि योग्य जमीन है। योजना में 18 वर्ष की आयु में शामिल होने वाले किसान को 55 रुपए और 40 की उम्र में योजना में आने वाले किसान को 200 रुपए की मासिक किस्त देनी होगी। उनके योगदान के बराबर ही सरकार भी अपनी ओर से योगदान देगी। एक स्वैच्छिक और योगदान आधारित यह पेंशन योजना 18 से 40 वर्ष की आयु के किसानों के लिए है। इस पेंशन योजना के तहत पहले चरण में 5 करोड़ किसानों को 60 साल की उम्र पूरी होने के बाद हर माह 3,000 रुपये पेंशन दी जाएगी। सरकार ने इसका लाभ उन सभी 12 करोड़ किसानों को देने का प्लान बनाया है जिनके पास 2 हेक्टेयर या फिर 5 एकड़  तक की कृषि योग्य जमीन है। यदि किसानों ने प्रधानमंत्री सम्मान निधि में रजिस्ट्रेशन करवाया है और उन्हें इस योजना का लाभ मिल रहा है तो ऐसे किसानों को मानधन योजना के लिए अलग से रजिस्ट्रेशन करवाने की जरूरत नहीं है। ये किसान सालाना 36 हजार रुपये पेंशन वाली स्कीम का फ्री में फायदा ले सकते हैं। इसके लिए सरकार कोई कागजात भी नहीं मांगेगी।

यह योजना किसानों के बुढ़ापे का बड़ा सहारा बनेगी। केंद्रीय कृषि मंत्रालय ने ऐसा इंतजाम कर दिया है कि पीएम किसान स्कीम से मिलने वाले 6000 रुपये में से सीधे मानधान स्कीम के लिए भी पैसे कट जाएंगे। किसान को अपनी जेब से खर्च नहीं करना होगा। किसान चाहें तो प्रीमियम देने का नया विकल्प चुन सकते हैं। जिसमें पीएम किसान सम्मान निधि की रकम में से ही प्रीमियम कट जाएगा। योजना का न्यूनतम प्रीमियम 55 रुपये से लेकर 200 रुपये तक है। अगर पॉलिसी होल्डर किसान की मौत हो गई तो उसकी पत्नी को 50 फीसदी 1500 रुपए प्रति माह की रकम पेंशन के तौर पर मिलती रहेगी। इसमें जितना प्रीमियम किसान देगा उतना ही मोदी सरकार भी देगी। अगर बीच में कोई पॉलिसी छोड़ना चाहता है तो जमा पैसा और उसका साधारण ब्याज मिल जाएगा। इसके रजिस्ट्रेशन के लिए कोई फीस नहीं लगेगी। पेंशन योजना का लाभ लेने के लिए कॉमन सर्विस सेंटर पर जाकर रजिस्ट्रेशन कराना होगा। आधार कार्ड देना सबके लिए जरूरी है। अगर किसी किसान को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ नहीं मिल रहा तो खसरा – खतौनी की नकल लगेगी।फोटो और बैंक पासबुक की भी जरूरत होगी। रजिस्ट्रेशन के दौरान किसान पेंशन यूनिक नंबर और पेंशन कार्ड बनाया जाएगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button