इलाज के दौरान बालिका की मौत के बाद प्राइवेट अस्पताल के सामने परिजनों का धरना, भारी हंगामा

जौनपुर। नगर के एक प्राइवेट अस्पताल में इलाज के दौरान एक बालिका की मौत के बाद गुस्साएं परिजनों ने डाक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा कर दिया। हंगामे के चलते पूरे अस्पताल परिसर में हड़कंप मच गया। सूचना मिलते ही पुलिस ने मौके पर पहुंचकर किसी तरह से समझा बुझाकर मामले को शांत करने के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। परिवार वालों का आरोप है कि उनके पास आयुष्मान कार्ड होने के बाद भी डाक्टर उसे दरकिनार करते हुए नगद पैसा लेकर इलाज कर रहे थे, इसके बावजूद लापरवाही के चलते मेरी बेटी की जान चली गयी।‌मिली जानकारी के अनुसार मड़ियाहूं थाना क्षेत्र के रामनगर विधमौवा गांव के निवासी संजय तिवारी की बेटी गोल्डी तिवारी बीते 15 नम्बर को गाय के हमले से बुरी तरह से जख्मी हो गयी थी। परिवार वालोें ने उसे नगर के मड़ियाहूं पड़ाव पर स्थित हास्पिटल में भर्ती कराया था। आज उसकी मौत होने के बाद गुस्साए परिजनों ने अस्पताल के डाक्टर और स्टाफ पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा शुरू कर दिया। पिता संजय ने आरोप लगाया कि अस्पताल में भर्ती होने के समय ही मैने डाक्टर को बताया था कि मेरे पास आयुष्मान कार्ड है इसके बाद भी डाक्टरों ने कहा कि इस रोग का इलाज कार्ड से नहीं नगद पैसे से किया जायेगा। मैंने पैसा देकर इलाज करवाना शुरू किया। आज मेरी बेटी की हालत खराब हुई तो डाक्टर से देखने के लिए कहा गया तो स्टाफ हीला हवाली करता रहा, जिसके कारण मेरी बेटी की जान चली गयी। सूचना मिलते ही सीओ सिटी समेत पुलिस फोर्स ने मौके पर पहुंचकर हंगामा कर रहे लोगों को किसी तरह से समझा बुझाकर मामले को शांत कराने के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। इस मामले पर सीओ सिटी ने बताया कि पूरे मामले की जांच सीएमओ से करायी जायेगी।
उधर आरोपी डाक्टर राहुल श्रीवास्तव ने अपने ऊपर लगे सारे आरोपों को एक सिरे से खारिज करते हुए कहा कि इलाज में कोई लापरवाही नहीं बरती गयी है। आयुष्मान कार्ड से इलाज न करने के आरोप पर कहा कि परिवार ने बताया ही नहीं था कि उनके पास आयुष्मान कार्ड है। अगर बताया होता तो उसी से किया जाता।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button