बढ़े हुए बिजली बिल पर कनेक्शन काटना – मुकदमा करना अन्यायपूर्ण : प्रमोद तिवारी

कांग्रेस नेता ने किसान को गुलाम बनाने वाला बताया कृषि विधेयक को

जौनपुर। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं उत्तर प्रदेश के प्रभारी प्रमोद तिवारी का आरोप है कि सरकार महंगे दाम पर बिजली खरीद कर टोरंटो सहित अन्य कंपनियों को सस्ते दाम पर बिजली उपलब्ध करा रही है और आम आदमी को बिजली नहीं मिल रही है। उन्होंने कहा कि पूरे प्रदेश में छापेमारी की कार्यवाही जारी है। बढ़े हुए बिजली के बिल पर कनेक्शन काटे जा रहे हैं और लोगों पर मुकदमा कायम किया जा रहा है, यह पूरी तरह अन्याय पूर्ण है। उन्होंने कहा कि आम आदमी को 24 घंटे बिजली उपलब्ध कराई जाए , बकाए के नाम पर उनके कनेक्शन न काटे जाएं । उन्होंने कहा कि जहां चुनाव हो रहे हैं वहां तो बिजली दी जा रही है और जहां नहीं हो रहे हैं वहां बिजली में कटौती की जा रही है।
कांग्रेस कार्यालय पर शनिवार को पत्रकारों से बात करते हुए प्रमोद तिवारी नेकहा कि मोदी सरकार द्वारा लाये गये कृषि संशोधन विधेयक में किसानों को फसल के न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारण्टी नहीं दी गयी है। काण्ट्रैक्ट बिल पर किसान की जमीन पर उसके स्वामित्व का क्या होगा। क्या पुरानी जमींदारी प्रथा को फिर से लाने की कोशिश हो रही है। यह विधेयक किसान को गुलाम बनायेगा। उन्होंने कहा कि खरीफ की प्रमुख फसल धान की खरीद पूरे प्रदेश में क्रय केन्द्रों पर नहीं हो रही है। जहां खरीदा भी जा रहा है, वहां सरकार द्वारा घोषित समर्थन मूल्य से कम पर खरीद की जा रही है। इसी प्रकार मक्का भी उचित मूल्य पर नहीं खरीदा जा रहा है।
कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि प्रदेश में चारो तरफ जंगल राज कायम हो गया है। एक सप्ताह में 13 बेटियोें के बलात्कार की घटनायें हो चुकी। बलिया में पुलिस उपाधीक्षक के सामने गोली मारी जा रही है तो फिर आम आदमी कहां तक सुरक्षित है। ऐसा प्रतीत होता है जैसे सरकार ने अपराधियों के सामने आत्मसमर्पण कर दिया है। सरकार में काम करने की इच्छा शक्ति समाप्त हो गयी है।बिहार के चुनाव की चर्चा करते हुए प्रमोद तिवारी ने दावा किया कि चुनाव में राहुल गांधी और तेजस्वी यादव की जनसभाओं में उमड़ता जनसैलाब और दूसरी तरफ प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की जनसभाओं में चेहरे पर निराशा लिए पंडाल में गुमसुम बैठे हुए लोग जिन से पंडाल भरना भी मुश्किल। यह अगर कोई पैमाना है तो कांग्रेस और राजद के गठबंधन को दो तिहाई बहुमत के साथ आना चाहिए और भाजपा-जेडीयू का बिहार से जाना तय है । इस अवसर पर जिलाध्यक्ष फैसल हसन, मल्हनी विधानसभा क्षेत्र उप चुनाव में कांग्रेस के प्रत्याशी राकेश मिश्र उर्फ मंगला भी मौजूद रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button