किसान आंदोलन के समर्थन में देशव्यापी एक दिनी भूख हड़ताल जौनपुर में भी

जौनपुर। तीन कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसान आंदोलन के समर्थन में देशव्यापी एक दिवसीय भूख हड़ताल के आयोजन पर ऑल इंडिया किसान खेत- मजदूर संगठन (एआईकेकेएमएस) की जिला कमेटी के नेतृत्व में फत्तूपुर रेलवे क्रॉसिंग बदलापुर, सिंगरामऊ बाजार, रतासी बाजार, बदलापुर सब्जी मंडी के सामने तथा जौनपुर शहर स्थित गांधी पार्क सहित जिले के कई हिस्सों में किसानों ने भूख हड़ताल कर अपना विरोध दर्ज कराया।

संगठन के प्रवक्ता ने कहा है कि 500 किसान संगठनों से निर्मित अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति (एआईकेएससीसी) के द्वारा लंबे समय से कृषि के तीन काले कानूनों और बिजली संशोधन कानून 2020 को रद्द करने की मांग को लेकर दिल्ली में लगातार क्रमिक किसान आंदोलन चलाया जा रहा है। किसान आंदोलन के इसी क्रम में आज 23 दिसंबर को भी पूरे देश में सुबह 10 बजे से भूख हड़ताल पर बैठकर किसान सरकार की नीतियों का विरोध कर रहे हैं। लेकिन सरकार तानाशाहीपूर्ण व अलोकतांत्रिक ढंग से किसान आंदोलन को तोड़ने की हर कोशिश कर रही है और अन्नदाता किसानों की जायज मांगों को अनसुनी कर बातों में उलझा रही है।

सरकार पूंजीपतियों के स्वार्थ हित में काम कर रही है और जनविरोधी नीतियां आम जनता पर थोप रही है। लेकिन यह किसान आंदोलन तब तक चलता रहेगा, जब तक सरकार किसानों की मांगों को नहीं मान लेती है।विभिन्न जगहों पर किसान आंदोलन के समर्थन में भूख हड़ताल पर बैठने वालों में श्रीपति सिंह, राम गोविंद सिंह, रामप्यारे एडवोकेट, लालता प्रसाद मौर्य, राजबहादुर मौर्य, अशोक कुमार खरवार, मिथिलेश कुमार मौर्य, रविशंकर मौर्य, प्रमोद कुमार शुक्ला, दिलीप कुमार, संतोष प्रजापति, राजबहादुर विश्वकर्मा, मनोज विश्वकर्मा, हीरालाल गुप्त, सुखराज, राकेश, विनोद, श्याममिलन, राधेश्याम चौबे, विजय प्रकाश, शेखर, मीता, अनीता अंजली, देवीशंकर, रामदेव, रामलाल, दिनेश मौर्य सहित कई लोग शामिल रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button