प्रतिशोध में की गयी थी बाला यादव की हत्या, मर्डर वैपन के साथ 4 गिरफ्तार

सफलता पाने वाली जीआरपी की टीम को एसपी जीआरपी द्वारा पुरस्कृत करने का एलान, वारदात की पृष्ठभूमि में चार साल पहले सैदनपुर में हुआ हत्याकांड

जौनपुर। स्थानीय सिटी स्टेशन के प्लेटफार्म नम्बर एक पर भू माफिया एवं सपा सभासद बाला यादव हत्याकाण्ड का खुलासा बुधवार को राजकीय रेलवे पुलिस ने कर दिया। जीआरपी ने चार अभियुक्तों को गिरफ्तार करके उनके पास से हत्या में प्रयुक्त रिवाल्वर एवं कारतूस आदि बरामद किया है। सभी को न्यायालय में पेश करके जीआरपी ने अदालत के आदेश पर जेल रवाना कर दिया है।

फाईल फोटो

इस संदर्भ में जीआरपी के पुलिस अधीक्षक डाॅ. बृजेश कुमार ने बताया कि बाला की हत्या एक प्रतिशोध को लेकर की गई है। जीआरपी पुलिस के अनुसार वर्ष 2016 में सैदनपुर गांव में ओम प्रकाश यादव की हत्या की गयी थी। उस हत्याकाण्ड में बाला यादव का हाथ था। इसमें एक साजिश के तहत ओमप्रकाश यादव (मृतक) के परिवार के दो सदस्यों को धारा 302 का मुजरिम बना दिया गया था। तभी से परिजन इस हत्याकाण्ड का बदला लेने की फिराक में थे और 2021में 01 फरवरी को रात्रि में 8.30 बजे मौका मिलते ही सिटी स्टेशन के प्लेटफार्म नम्बर पर बाला यादव की हत्या करके बदला ले लिया गया।

घटना के पश्चात जीआरपी थाने में मुकदमा दर्ज कर विवेचना शुरू की गयी। खुद पुलिस अधीक्षक विवेचना की निगरानी कर रहे थे। गहन तफतीश में पता चला कि बाला की हत्या पुरानी रंजिश के चलते सैदनपुर गांव के निवासी ओमचंद्र गुप्ता उर्फ पवन , उमेश गौड़ , मड़ियाहूं थाना क्षेत्र के रामपुरनद्दी गांव के निवासी रितेश सिंह और महाराष्ट्र के शोलापुर के जयदीप प्रकाश गायकवाड़ ने किया है। इसके बाद पुलिस टीम ने लगातार छापेमारी कर हत्यारों को गिरफ्तार कर लिया तथा उनके पास हत्या में प्रयुक्त असलहा रिवाल्वर एवं कारतूस आदि बरामद भी किया है। एसपी जीआरपी ने इस हत्याकाण्ड का खुलासा करने वाली टीम को पुरस्कार देने का एलान किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button